मंद बुद्धि से महानता तक…….

iअपनी  Intelligence से  दुनिया  को  अनूठे तोहफे  देने वाले  कुछ  महान  लोग  अजीब  आदतों  के  शिकार  थे  और  उन्हें दुनिया  भी  फिसड्डी  ही  मानती  थी . शुरू में  लोगों  ने  उन्हें  ताने  दिए  और उन्हें  सनकी ,पागल  और  नाकारा  समझा . लेकिन  जब  इन लोगो  ने  अपनी काबिलियत  का  परिचय  दिया  तो  दुनिया  में  परिवर्तन  आ  गया . आइये हम  ऐसे ही कुछ महान वैज्ञानिकों के जीवन के कुछ रोचक व प्रेरणादायक तथ्य जानते हैं :

Sir Isaac Newton / सर आइज़क न्यूटन  (25 December 1642 – 20 March 1727)

issac-newton-%e0%a4%86%e0%a4%87%e0%a4%9c%e0%a4%bc%e0%a4%95-%e0%a4%a8%e0%a5%8d%e0%a4%af%e0%a5%82%e0%a4%9f%e0%a4%a8-150x150दुनिया को  गुरुत्वाकर्षण  का  सिद्धांत  देने वाले  Sir Issac Newton शुरुआती  दिनों  में  ठीक  प्रकार से  बोल  भी  नहीं  पाते  थे . वे स्वभाव से काफी गुस्सैल  थे  और  लोगों  से  कम  ही  वास्ता रखते  थे . उनके  इसी  व्यव्हार  के  कारण  उनके  मित्र  भी  न के  बराबर थे . newton अपने  विचार  भी  सही  ढंग  से  व्यक्त  नहीं  कर  पाते   थे ,वह अपने  उपलब्धियों  या  खोज  को  बताने  में  संकोच  करते   कि  कहीं  वह  हंसी के  पात्र  न  बन  जाएं . शुरुआती  दिनों  में  Newton कई  प्रकार  के प्रयोग  करते  रहते  थे .Newton के  व्यव्हार  के कारण  उन्हें  सनकी  और  पागल समझा  गया  पर  लोगों की परवाह किये बगैर वे अपने शोध में लगे रहे और अंततः एक महान  वैज्ञानिक  बनकर उभरे और एक  genius के रूप में विख्यात हुए।

 

Thomas Alva Edison / थॉमस अल्वा एडिसन   (February 11, 1847 – October 18, 1931)

thomas-alva-edison-%e0%a4%a5%e0%a5%89%e0%a4%ae%e0%a4%b8-%e0%a4%85%e0%a4%b2%e0%a5%8d%e0%a4%b5%e0%a4%be-%e0%a4%8f%e0%a4%a1%e0%a5%80%e0%a4%b8%e0%a4%a8-150x150आज आपके कमरे  में  जो  bulb रौशनी  करता  है ,उसका आविष्कार  Thomas Alva Edison ने किया  था .

विद्युत्  बल्ब   के  जनक  के  नाम  से  मशहूर  Edison को  शुरू  में  फिस्सड्डी और  मंद  बुद्धि  बालक  समझा  जाता  था ,लेकिन निरंतर परिश्रम के बल पर एक  दिन उन्होंने  अपने अविष्कार से सारी   दुनिया  प्रकाशमय  कर  दी .Edison ने  सिर्फ बल्ब  ही  नहीं  ,बल्कि सैकड़ों अन्य अविष्कार भी  दुनिया  को  दिए। वे  अधिकांश  समय  अपनी  प्रयोगशाला  में  बिताते  थे . अविष्कारों  को लेकर  उनके  जूनून  को  देखकर  लोग  उन्हें  सनकी  और  पागल  तक  समझने  लगे थे। बचपन  में  भी  वे  अजीब  हरकतो  के  लिए  जेन  जाते थे  . कहा  जाता  है कि  एक  बार  चिड़ियों  को  कीड़े  खाते  देख  उन्होंने  यह  सोचा  कि  उड़ने  के लिए  कीड़े  खाना  शायद  जरुरी  है . बस  ,कुछ  कीड़े  इकट्ठे  कर उसका  घोल  बनाकर  उसे अपने  दोस्त  को  पिलाने  कि  कोशिश की  . वे देखना  चाहते  थे  कि  उनका  दोस्त  इसके  बाद  उड़ने  लगेगा  या  नहीं . जाहिर है  कि  उन्हें  सबने   खूब  डांटा   और उनपर  पाबंदिया  भी  लगाई  गई . पर  उनकी  इसी जिज्ञासु प्रवित्ति ने  दुनिया  बदल  दी .

 

Albert Einstein /अल्बर्ट आइंस्टीन  (14 March 1879 – 18 April 1955)

albert-einstein-150x150महान  वैज्ञानिकों में  Albert Einstein का  नाम  सबसे  पहले  रखा  जाता  है . 1879 में जन्मे  Albert Einstein तीन  साल  तक  डिस्लेक्सिया  से  पीड़ित  थे  और   बोल  भी  नहीं  पाते   थे . तेरह  साल  कि  उम्र तक  वह  अपने  जूतो   के  फीते  बांधना  भी  नहीं  सीख  पाये  थे . Einstein शुरू  में  न  तो  गुणा -भाग  कर  पाते  थे  और  न ही  शब्दों  को  सही तरह  से  लिख  पाते   थे . उनके शिक्षक  हमेशा  उनके  बारे  में  नकारात्मक टिपण्णी  करते  थे .Einstein general relativity का  सिद्धांत  प्रतिपादित कर   इतिहास  में  अमर  हो  गए . उनके  इस  सिद्धांत से  विज्ञान  के  क्षेत्र  में  क्रांति आ गयी।  अपनी  इस  उपलब्धि  के  लिए  वह आधुनिक  भौतिकी  के  जनक  कहलाये .Einstein को  विज्ञान   में  अद्भुत योगदान ,खासकर  law of photoelectric effect कि  खोज  के  लिए 1921 में Nobel पुरस्कार  से  सम्मानित  किया  गया .

Friends, इन माहन वैज्ञानिकों का जीवन दर्शाता है कि कमजोर शुरुआत और दुनिया भर के विरोध के बावजूद धुन का पक्का व्यक्ति कुछ भी कर गुजर सकता है। हमें भी इनसे सीख लेते हुए  सामने आने वाली मुश्किलों  से घबराये बिना निरंतर  अपने  लक्ष्य की और  बढ़ते रहना चाहिए और एक दिन अपने सपनो को साकार करना चाहिए।

मंद बुद्धि से महानता तक : तीन वैज्ञानिकों का प्रेरणादायी जीवन

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *